• Sat. Mar 2nd, 2024

E News 24

News Views & Review

छह माह की बच्ची को जेल भेजना चाहते हैं परिजन, इस अनोखे मामले को जानकर आपकी आंखे हो जाएगी नम

ByDK Media

Oct 7, 2022

उत्तर प्रदेश के चित्रकूट जनपद के राजापुर थाना क्षेत्र में एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसे सुनकर हर कोई हैरान है. आपको बता दें कि पिछले दिनों राजापुर थाना क्षेत्र में रामलीला देखने के दौरान एक पुलिसवाले ने कथित रूप से एक युवती संग अभद्रता कर दी थी. इसके बाद आक्रोशित भीड़ ने 2 सिपाहियों की जमकर पिटाई कर दी थी. इस केस में पुलिस ने 20 नामजद और 50 अज्ञात लोगों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया था. इसमें 7 लोग गिरफ्तार हुए थे. इसमें पूजा नाम की एक महिला भी थी. पूजा की 6 माह की बच्ची है जो मां के जेल जाने के कारण से उससे दूर हो गई है.

जेल की हवा खाने से बचने के लिए लोग अक्सर अधिकारियों और न्यायालयों के चक्कर लगाते रहते हैं, लेकिन क्या आप ने कभी ये देखा है कि कोई जेल जाने के लिए अधिकारियों और न्यायालयों से हाथ जोड़ गुजारिश कर रहा है. वे भी एक 6 माह की बच्ची को जेल भेजने की जिद कर रहा है? ये अनोखा मामला यूपी के चित्रकूट जनपद के राजापुर थाना क्षेत्र में देखने को मिला है. बच्ची दूधमुंही है. मां के जेल जाने के बाद से उसे मां का दूध नहीं मिल रहा है. मां के बिना वे दिनरार रोती रहती है. उसका ख्याल रखने के लिए कोई नहीं है. फिलहाल बच्ची अपनी दादी के पास है, लेकिन मासूम मां के बिना ठीक नहीं है.

इसलिए परिजन अब चाहते हैं कि इस 6 महिने की बच्ची को जेल में उसकी मां के पास रखा जाए. ताकि बच्ची को मां का दूध और प्यार दोनों मिल सके. वे सेहतमंद रहे. हालांकि जेल अधिकारियों ने बिना अदालत के आदेश के बच्ची को जेल में मां के पास रखने से मना कर दिया है. ऐसे में परिजन अधिकारियों के चक्कर काटकर बच्ची को जेल भेजने की गुहार लगा रहे हैं. हालांकि कहीं कोई सुनवाई नहीं हो रही है. हाल ही में परिजन जिला कारागार रगौली पहुंच गए. यहां जेल अधिकारियों से बच्ची को मां के पास रखने की विनती की. कहा कि इस बच्ची का क्या कसूर है जो वह अपनी मां से दूर है.

जेल अधीक्षक अशोक सागर का इस केस पर कहना है कि पुलिस द्वारा कागज में बच्ची के बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई थी. इसलिए जेल प्रशासन बिना न्यायिक आदेश के बच्ची को जेल में नहीं रख सकता है. एक बार परिजन कोर्ट से आदेश ले आए तो हम बच्ची को जेल में मां के पास पहुंचा देंगे. हालांकि अब सवाल ये उठता है कि इस बीच यदि बच्ची को कुछ हो जाए और उसकी तबीयत बिगड़ जाए तो इसका जिम्मेदार कौन होगा? वैसे इस पूरे केस पर आपकी क्या राय है हमे जरूर बताएं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *