• Sat. Jun 15th, 2024

E News 24

News Views & Review

अगर आप रविवार को करेंगे ये उपाय, तो सूर्य देव हो जाएंगे प्रसन्न, फिर बरसेगी आपके जीवन में कृपा

ByDK Media

Oct 9, 2022

क्या आपके जीवन में कई रूकावटें पैदा हो रही है. तरक्की की राह मुश्किल हो रही है. क्या आपके बनते-बनते काम बिगड़ जाते है तो आपको परेशान होने की कोई बात नहीं है. धर्मशास्त्रों के जानकारों के अनुसार ऐसा सूर्य के कमजोर होने से होता है. ऐसे में आपको अपने सूर्य को मजबूत करने की आवश्यकता है. ऐसी मान्यता है कि जो व्यक्ति प्रतिदिन सुबह सूर्य देव को अर्घ्य देता है, उसे कभी किसी चीज की कमी नहीं रहती.

अगर आपके लिए हर रोज ऐसा करना संभव न हो तो रविवार की सुबह यह काम जरूर कीजिए. क्योंकि रविवार को सूर्य देव का दिन माना जाता है. तांबे लोटे में चावल, लाल रंग के फूल और लाल मिर्च के कुछ दाने डालकर सूर्य देव को अर्घ्य दीजिए.ऐसी मान्यता है कि अगर रविवार को सूर्यदेव की पूजा पूरे विधि-विधान के साथ की जाए तो व्यक्ति को जीवन में सुख-समृद्धि, धन-संपत्ति की प्राप्ति होती है. साथ ही शत्रुओं से सुरक्षा भी होती है. इसके अलावा रविवार का व्रत करने व कथा सुनने से व्यक्ति की हर मनोकामना पूरी होती है.

हर व्यक्ति चाहता है कि उसके जीवन में सुख-सुविधाएं हो. इसी के लिए इंसान दिन-रात मेहनत करता है, लेकिन कई बार ऐसा होता है कि चाहें आप कितने भी कर्म करो आपको उसके अनुरुप फल प्राप्त नहीं होता है. ऐसे में शास्त्रों में कुछ ऐसे उपाय होते हैं जो अगर किए जाएं तो व्यक्ति को जीवन में तरक्की मिलने के योग बनते हैं. साथ ही मां लक्ष्मी भी प्रसन्न होती हैं. यहां हम आपको कुछ रविवार को किए जाने वाले कुछ उपायों की जानकारी दे रहे हैं जिन्हें करने से मां लक्ष्मी प्रसन्न हो जाती हैं.

रविवार को जरूर कीजिए ये काम: सामर्थ्य के अनुसर तांबे के बर्तन, लाल कपड़े, गेंहू, गुड़ और लाल चंदन का दान कीजिए.सूर्य देव को कभी भी बिना स्नान के जल अर्पित नहीं करना चाहिए. सूर्य देव को जल अर्पित करने के लिए जल में रोली या लाल चंदन और लाल पुष्प डाल सकते हैं. सूर्य देव को अर्घ्य देते समय स्टील, चांदी, शीशे और प्लास्टिक बर्तनों का प्रयोग नहीं करना चाहिए.

सूर्य देव मंत्र:
संभव हो तो सूर्य देव को जल अर्पित करते समय इस मंत्र का जरूर का जाप करें
ॐ सूर्याय नम:
ॐ ह्रीं ह्रीं सूर्याय नमः
ऊँ घृणि: सूर्यादित्योम
ऊँ घृणि: सूर्य आदित्य श्री
ऊँ ह्रां ह्रीं ह्रौं स: सूर्याय: नम:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *